शनिवार, 9 जनवरी 2010

हिन्दी फ़िल्मों में हिन्दी : बालीवुड मे साहित्य

बहुत बरस पहले सुना था कि मुन्शी प्रेमचन्द भी माया नगरी पहुंचे थे. कुछ फ़िल्मों के लिए पटकथाएं भी लिखीं. नागर जी और उनकी सुपुत्री, भगवती बाबू, रेणु जी (शैलेन्द्र की वजह से), नीरज, आज कल उदय प्रकाश, बीच मे मन्नू जी, राजेन्द्र जी, कमलेश्वर, धर्मवीर भारती, बच्चन जी आदि आदि अनेक नाम कभी न कभी बालीवुड से जुड़े थे. लेकिन तथाकथित हिन्दी फ़िल्मों के व्यवसाय के कर्ता धर्ता यानी निर्माता, निर्देशक और अभिनेता/अभिनेत्रियां हिन्दी से इतनी दूर नज़र आते हैं कि ऐसा लगता है कि हिन्दी इनके लिए मात्र कमाई की भाषा ही है, बोल चाल की नहीं.

ऐसा क्षेत्रीय फ़िल्मों से जुड़े लोगो में तनिक कम लगता है. लगभग सभी क्षेत्रीय भाषाओं के अभिनेतागण सार्वजनिक रूप से और मीडिया पर भी अपनी अपनी भाषा में ही बात-चीत करते नज़र आते है. बांग्ला, कन्नड़, तमिल, तेलुगू, मलयालम, मराठी आदि भाषाओं के फ़िल्म कलाकार अपनी अपनी भाषा के साहित्य से भी वाकिफ़ लगते हैं. अफ़सोस की बात है कि हिन्दी फ़िल्म उद्योग से जुड़े लोगों को हिन्दी साहित्य से कोई जुड़ाव हो ऐसा कभी भी नहीं लगता. बालीवुड के आज के स्टारों मे एक अमिताभ जी को छोड़ कर शायद ही कोई हो जो हिन्दी मे वार्तालाप कर सके. आश्चर्य तो तब होता है जब हिन्दी पट्टी से पहुंचे कलाकार, जो हिन्दी नाटकों से हो कर आगे बढ़े हैं, एकदम से अंग्रेज़ीदां बनने की कोशिश करने लगते हैं. मनोज बाजपेयी, शेखर सुमन आदि को क्या कहें.

बहुत पहले देवानन्द और वहीदा अभिनीत एक फ़िल्म देखी थी - ’काला बाज़ार’. फ़िल्म की कहानी तो अब ठीक ठीक नही याद है, पर एक ऐसा दॄश्य है फ़िल्म में जब नायिका अपने कालेज के पास एक बाग मे बैठ कर एक किताब पढ़ रही होती है, और कैमरा ज़ूम होने पर दिखता है कि वह पुस्तक ’कामायनी’ है. आजकल पहले तो फ़िल्मी पात्र पर्दे पर कुछ पढ़ते नज़र आते ही नहीं, और अगर ऐसा गलती से कभी हो भी जाए तो उनके हाथों में हिन्दी की कोई किताब तो शायद ही होगी. (यदि आपको कोई किरदार पर्दे पर कोई किताब पढते नज़र आया हो तो कॄपया ज़रूर बताएं.)

7 टिप्‍पणियां:

बेनामी ने कहा…

निरंतर सार्थक ब्लॉगरी के लिए शुभकामनाएँ।
अरे भाई, मनोज बाजपेयी तो हिन्दी में ब्लॉगरी करते हैं।

अजय कुमार ने कहा…

हिंदी ब्लाग लेखन के लिए स्वागत और बधाई
कृपया अन्य ब्लॉगों को भी पढें और अपनी टिप्पणियां दें

sudesh ने कहा…

@ बेनामी जी
सर जी कुछ चैनलों पर प्रसारित मनोज जी के हालिया कुछ साक्षात्कारों से तात्पर्य था मेरा. इनमें मनोज बिल्कुल वैसे ही ही बोलते नज़र आए जैसे बालीवुड के बाकी लोग बचते हुए हिन्दी बोलते हैं.

सागर नाहर ने कहा…

आप हिन्दी बोलने की बात कर रहे हैं; ज्यादातर कलाकारों को हिन्दी पढ़ना भी नहीं आता संवाद रोमन में लिख कर दिये जाते हैं। बहुत दुख: की बात है यह।
अमितजी के अलावा ( अमितजी भी की जगह हिदी की बजाय़ अंग्रेजी बोलना ज्यादा पसन्द करते दिके हैं) आशुतोष राणा भी ज्यादातर हिन्दी में ही बात करते हैं।
कुछ दिनों पहले स्टार प्लस पर एक कार्यक्रम में फरहाखान ने ज्यादातर सवाल हिन्दी में पूचे पर मजाल है जो ऋत्विक रोशन ने उनमें से एक का भी जवाब हिन्दी में दिया हो, उस दिन तो साफ महसूस हो रहा था कि ऋत्विक को हिन्दी से चिढ़ है।
॥दस्तक॥,
गीतों की महफिल,
तकनीकी दस्तक

janokti ने कहा…

हिंदी चिट्ठाकारी की सरस और रहस्यमई दुनिया में आपके इस सुन्दर चिट्ठे का स्वागत है . चिट्ठे की सार्थकता को बनाये रखें . अगर समुदायिक चिट्ठाकारी में रूचि हो तो यहाँ पधारें http://www.janokti.blogspot.com . और पसंद आये तो हमारे समुदायिक चिट्ठे से जुड़ने के लिए मेल करें janokti@gmail.com
--
जयराम "विप्लव"
Editor
http://www.janokti.com/

ज़ाकिर अली ‘रजनीश’ ने कहा…

सुदेश जी,
आरज़ू चाँद सी निखर जाए, ज़िंदगी रौशनी से भर जाए।
बारिशें हों वहाँ पे खुशियों की, जिस तरफ आपकी नज़र जाए।
जन्मदिन की हार्दिक शुभकामनाएँ।

………….
इसे पढ़कर आपका नज़रिया बदल जाएगा ।

दीप्ति शर्मा ने कहा…

bahut sahi
...