मंगलवार, 22 दिसंबर 2009

RAAZ

क्या मजे की बात हैजब जी चाहे टाइम मशीन का समय चक्र घुमाया और जा पहुंचे पुराने समय मेंमिल आये तत्कालीन रिश्तेदारों से, दोस्तों से, दुश्मनों से और चाहे तो कुछ भूल सुधार भी कर आयेऐसा ही कुछ लगता था मुझेजब पहली बार मैंने एक लोकप्रिय अंग्रेज़ी फिल्म "Timecop" देखी। Van Dam की इस फिल्म में खलनायक समय सेपीछे जा कर अपराध करता थाउदाहरण के लिए, वह १९३० के दशक में जा कर मंदी के दौर की कंपनियों के शेयर औनेपौने दामों में खरीदता था और फिर वर्तमान में लौट आता था और उन्हीं कंपनियों पर कब्ज़ा कर लेता था अपने शेयरहोल्डिंग की बदौलतएक अन्य बदमाश वर्तमान से अत्याधुनिक स्वचालित मशीन गन ले कर १९ वीं शताब्दी में जाकर खज़ाना लूटता था फिर मजे से वापस लौट आता थाकुछ इसी तरह की चीज़ें कॉमिक्स में भी मिलती हैं
हाँ कुछ अजीब से प्रश्न ज़रूर आते थे मन में जो इस तरह की फिल्मों में ठीक से उत्तरित नहीं होते थेजैसे जब आपविगत में जा कर कुछ बदलते हैं, तो उनके परिणाम तब से ले कर अब यानी वर्तमान तक कुछ कुछ ज़रूर बदलेंगेफलस्वरूप जब हम वापस वर्तमान में लौटेंगे तो वह वैसा ही नहीं रहेगा जैसा हम उसे छोड़ कर गए थे
विज्ञानं फंतासियों के अलावा ऐसे विचारों को शायद ही कोई गंभीरता से लेता हो

लेकिन.... इट हैपेन्स ओनली इन इंडियाकुछ समय पहले एक रिअलिटी शो आरंभ हुआ है 'राज़..पिछले जन्म का' एनडी टी वी इमेजिन पर जहाँ प्रतिभागी बड़े नाटकीय तरीके से अपने पूर्व जन्म में चले जाते हैं (यह समय यात्रा से भीआगे की चीज़ है भाई) और उन्हें सब कुछ याद जाता है, कि उनकी मृत्यु कैसे हुई, पिछले जन्म में कौन माँ बाप थे, आदि आदिप्रेमाईस ये है कि यदि आपको कोई चीज़ बेचैन करती है, किसी प्रकार का भय है, या ऐसा ही कुछ तो ज़रूरइसका रिश्ता पूर्व जन्म से हैतो अब आप पूर्व जन्म में जाइये, अपनी वर्तमान समस्या का निश्चित कारण 'देखिये'। और वापस आइये आपकी उद्विग्नता समाप्त या कम हो जाएगीतो जैसे ही सेलिना जेटली कहती हैं कि उन्हें 'सोल मेट' कि तलाश है, दर्शक समझ जाता है कि ज़रूर पूर्व जन्म में इनका कोई ब्रेक अप हुआ थावाह वाह

कोई भी इस अंधविश्वास से भरे और तर्क से परे कार्यक्रम का विरोध नहीं करता, कि 'पास्ट लाइफ थेरेपी' आजकल 'इनथिंग' हैइलीट वर्ग का नया शगलतो मध्य वर्गीय जनता को सास बहू के आगे भी नया कुछ दिखाप्रिंट मीडिया याचैनेलीय मीडिया कहीं भी कुछ सुगबुगाहट नहींसूचना और प्रसारण मंत्रालय भी सोया हैजबकि उसके ही एक नियम '
Cable Television Network Rules, 1994 (Rule 6-1-j) के तहत अंधविश्वास फैलाना जुर्म है।

-

1 टिप्पणी:

sidd ने कहा…

Good observation!! You r right. It happens only in India..